बंगालः बीजेपी के 300 कार्यकर्ताओं की TMC में घर वापसी, छिड़का गया गंगा जल


विधानसभा चुनाव में टीएमसी ने प्रचंड जीत हासिल की थी (फाइल)

Mamata Banerjee: प्रदर्शनकारी कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को सुबह 8 बजे से प्रदर्शन करना शुरू किया और दोपहर के 11 बजे गंगा जल के छिड़काव के साथ प्रदर्शन खत्म हो गया.

बीरभूम. पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में बीजेपी के करीब 300 कार्यकर्ताओं ने टीएमसी में घर वापसी की है, ये कार्यकर्ता बीरभूम में टीएमसी दफ्तर के बाहर भूख हड़ताल पर बैठे थे. इनकी मांग थी कि टीएमसी इन्हें पार्टी में वापस ले. शुक्रवार को पार्टी दफ्तर के बाहर प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ताओं पर गंगा जल छिड़काव के बाद इन्हें टीएमसी में वापस ले लिया गया. गंगाजल कार्यकर्ताओं के प्रदूषित मस्तिष्क को स्वच्छ करने के लिए छिड़का गया. सैंथिया विधानसभा स्थित बानाग्राम में शुक्रवार की सुबह हुई यह घटना बीजेपी से टीएमसी में राजनेताओं और कार्यकर्ताओं के लौटने के क्रम में सबसे ताजा है, जो विधानसभा चुनाव से पहले टीएमसी छोड़कर बीजेपी में गए और चुनावों में टीएमसी के जीतने के बाद पार्टी में वापस लौटने लगे हैं.

प्रदर्शनकारी कार्यकर्ताओं में शामिल अशोक मंडल ने कहा, “हम चाहते थे कि टीएमसी हमें वापस ले. बीजेपी ज्वॉइन करके हमने अपने गांव में विकास कार्यों को रोक दिया है. बीजेपी की ओर से लगातार प्रदर्शन ने फायदे के बजाय नुकसान ज्यादा किया है. हम स्वयं पार्टी में वापस लौटना चाहते थे. जब तक हमें वापस नहीं लिया जाता है, हम धरना प्रदर्शन करते रहेंगे.” प्रदर्शनकारी कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को सुबह 8 बजे से प्रदर्शन करना शुरू किया और दोपहर के 11 बजे गंगा जल के छिड़काव के साथ प्रदर्शन खत्म हो गया.

गंगाजल छिड़काव पर बानाग्राम के टीएमसी पंचायत प्रधान तुषार कांति मंडल ने कहा, “बीजेपी एक सांप्रदायिक पार्टी है, जिसने इन कार्यकर्ताओं के मन में जहर बोया और मानसिक शांति छीन ली. इसलिए कार्यकर्ताओं के अशांत मस्तिष्क को शांत करने के लिए गंगा जल का छिड़काव किया गया. हमने अपने नेताओं से बात की और उन्हें दोबारा पार्टी में शामिल किया गया.”

तुषार मंडल ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से ये लोग पार्टी में वापस आने के लिए विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. शुक्रवार को पार्टी दफ्तर के बाहर धरने पर बैठ गए और वापसी की मांग करने लगे. हमने नेताओं से बात कर उनकी वापसी कराई और पार्टी का झंडा उन्हें सौंपा गया.इससे पहले तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा में गए करीब 50 कार्यकर्ता सोमवार को फिर से ममता बनर्जी की पार्टी में शामिल हो गए. इन कार्यकर्ताओं ने पार्टी में वापस लिए जाने को लेकर धरना भी दिया. इस महीने की शुरुआत में भाजपा के पांच कार्यकर्ताओं के एक समूह ने धरना देते हुए घोषणा की थी कि उन्होंने पार्टी छोड़ने और तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने का फैसला किया है ताकि वे बनर्जी के नेतृत्व में ‘‘मां, माटी, मानुष’’ के लिए काम कर सकें.

जिले के इलमबाजार इलाके में भाजपा से नाराज कार्यकर्ताओं ने तृणमूल कांग्रेस कार्यालय के बाहर धरना दिया. इस दौरान उन्होंने पोस्टर बैनर भी लगा रखे थे कि चुनाव के दौरान पाला बदलने का उन्हें खेद है. तृणमूल कांग्रेस के एक स्थानीय नेता ने बताया कि भाजपा से करीब 50 कार्यकर्ता पार्टी में लौट आए हैं.

उन्होंने कहा कि पार्टी के इन कार्यकर्ताओं के पास तृणमूल में शामिल होने के अलावा कोई विकल्प नहीं था क्योंकि पिछले महीने विधानसभा चुनाव परिणाम की घोषणा के बाद से ही सत्तारूढ़ दल के सदस्य लौटने के लिए उन पर दबाव बना रहे थे.









Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *