पेगासस मामला: मीनाक्षी लेखी बोलीं- ऐसी चीजों पर अपनी ऊर्जा खराब नहीं करेगी सरकार


नई दिल्ली. विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी (Meenakshi Lekhi) ने गुरुवार को कथित जासूसी मामले पर विपक्षी दलों पर जमकर निशाना साधा. केंद्रीय मंत्री लेखी ने कहा कि जिन लोगों ने लिस्ट बनाई है या सामने लाये हैं वो ही इसके सही होने का सबूत दें. इसको सही साबित करने का काम उनका ही है. ये सरकार का काम नहीं है कि कोई भी लिस्ट बना दें और सरकार उसका सबूत दे.

मीनाक्षी लेखी ने आज बीजेपी मुख्यालय में प्रेस कान्फ्रेंस करके कहा कि आप इस पूरे मामले की क्रॉनोलॉजी समझिए. इस पूरे मामले से देश की छवि ख़राब करने की कोशिश की जा रही है. पेगासस स्पाइवेयर (Pegasus Spyware) के ज़रिये कथित जासूसी मामले पर लेखी ने साफ़ कहा कि सरकार ऐसी नेगेटिव चीजों पर अपनी ऊर्जा ख़राब करने वाली नहीं है.

ये भी पढ़ें- ब्लैक फंगस के बाद कोविड से उबरे लोगों के लिए नई परेशानी, लीवर में हो रही ये दिक्कत

डेटा प्रोटेक्शन क़ानून बनाने पर विचार कर रही सरकार 

लेखी ने पलटवार करते हुए कहा कि सरकार डेटा प्रोटेक्शन क़ानून बनाने पर विचार कर रही है. भारत सरकार अपने लोगों के डेटा के प्रोटेक्शन को लेकर सीरियस है. उसी को ध्यान में रखकर ये स्टोरी बनाई गई है. लेखी ने प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि इस पूरी स्टोरी का मक़सद देश को बदनाम करने का माहौल बनाना है. भारत के मान सम्मान को गिराने का काम कर रहे हैं. जबकि एमनेस्टी ने भी इसका खंडन किया है. एनएसओ ने भी साफ़ बोला है कि ये हमारे कस्टमर से रिलेटेड नहीं है. विपक्षी दलों को आड़े हाथों लेते हुए विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी ने कहा कि ये सरकार की क्रेडिबिलिटी को जनता के सामने गिराने की कोशिश कर रहे हैं.

टीएमसी सांसद शांतनु सेन द्वारा राज्यसभा में आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव के हाथों से स्टेटमेंट छीनकर फाड़ने की घटना की निंदा करते हुए लेखी ने इसको शर्मनाक बताया. लेखी ने कहा कि टीएमसी सांसद ने राज्यसभा में ग़लत हरकत की है. एमनेस्टी और एनएसओ के मना करने के बाद भी संसद नहीं चलने दे रहे और जनता को गुमराह करने का प्रयास किया जा रहा है. भारत को इंस्टीट्यूशनली कमजोर करने का प्रयास किया जा रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *